उत्तराखंड का केदारनाथ पर्वत है यहां की विशाल चोटियों में से एक, जानिए क्या है इस पर्वत की खासियत

केदारनाथ और केदारनाथ गुंबद भारत के उत्तराखंड राज्य में पश्चिमी गढ़वाल हिमालय में गंगोत्री समूह की चोटियों के दो पहाड़ हैं। केदारनाथ मुख्य रिज पर स्थित है जो गंगोत्री ग्लेशियर के दक्षिण में स्थित है, और केदारनाथ गुंबद, मुख्य शिखर का एक उप-शिखर, केदारनाथ से दो किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में ग्लेशियर की ओर प्रक्षेपित एक स्पर पर स्थित है। इसकी ऊंचाई लगभग 6940 मीटर है। 

ये पर्वत हिंदू पवित्र स्थल गौमुख (गंगा नदी का स्रोत) से 15 किलोमीटर दक्षिण की दूरी पर हैं। केदारनाथ गंगोत्री ग्लेशियर के दक्षिण की ओर सबसे ऊंची चोटी है, और केदारनाथ गुंबद तीसरी सबसे ऊंची चोटी है। केदारनाथ शिखर और केदारनाथ गुंबद मुख्य शिखर का एक उपशिखर पश्चिमी गढ़वाल हिमालय के पहाड़ों के गंगोत्री समूह का अनमोल हिस्सा है।

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित केदारनाथ एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। गढ़वाल हिमालय में समुद्र तल से 3,584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, इसे हिंदू धर्म में सबसे पवित्र स्थलों में से एक माना जाता है। गर्मियों के दौरान, इस तीर्थ स्थल पर भगवान शिव का आशीर्वाद लेने आने वाले पर्यटकों का मेला लगा रहता है।

केदारनाथ मंदिर

यहां के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक केदारनाथ मंदिर है, जो लगभग 1000 साल पुराना है और एक आयताकार आधार पर बड़े पत्थर के स्लैब का उपयोग करके बनाया गया है। समुद्र तल से 3,584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ये स्थान सभी चार धामों में वहाँ तक पहुंचने के लिए सबसे कठिन स्थान है। 

केदारनाथ में घूमने के अन्य स्थानों में अगस्त्य मुनि, भैरव नाथ मंदिर, चोराबारी ताल, गौरीकुंड, केदार मासिफ, मंदाकिनी नदी, शंकराचार्य समाधि, वासुकी ताल और बहुत कुछ शामिल हैं। यहाँ घूमने फिरने से लेकर के ट्रेकिंग करने और दर्शन करने आदि भी बहुत कुछ करने की बहुत सी सुविधायें उपलब्ध हैं। 

केदार मासिफ

केदार मासिफ तीन पहाड़ों द्वारा निर्मित केदारनाथ में एक दर्शनीय स्थल है। केदारनाथ, केदार गुंबद और भारत कुंठ ये समुद्र तल से 6,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ये एक बहुत प्रमुख ट्रेकिंग क्षेत्र है। हालांकि ट्रेकर्स को ये अवश्य ध्यान रखने के लिए कहा जाता है कि जैसे-जैसे वे ऊपर चढ़ते जाते हैं वहाँ ऊँचाई पर ऑक्सीजन का स्तर उतना ही कम होता जाता है और इसलिए ट्रेकिंग से पहले अच्छी तरह से तैयार रहना चाहिए। 

केदारनाथ और केदारनाथ डोम को पहली बार सन् 1947 में आंद्रे रोच के नेतृत्व में एक स्विस टीम द्वारा एक साथ चढ़ाया गया था। केदारनाथ गुंबद पर उनका मार्ग, उत्तर-पश्चिम की ओर, अभी भी ये मानक मार्ग है। ये बिल्कुल सीधा और अपेक्षाकृत कम कोण वाला है, और वसंत के मौसम में एक लोकप्रिय इसकी चढ़ाई है।

केदारनाथ गुंबद के पूर्वी हिस्से पर पहली बार 1989 में अत्तिला ओज़स्वथ के नेतृत्व में हंगेरियन अभियान द्वारा चढ़ाई गई थी। उनकी चढ़ाई में “बहुत कठिन चढ़ाई की साठ पिचें” शामिल थीं।केदारनाथ हिंदू चार धाम यात्रा (तीर्थयात्रा) मंदिर स्थलों में से एक है। पृथ्वी पर इसे शिव-लोक कहा जाता है।

इस ज्योतिर्लिंग को भारत भर में 12 प्रतिष्ठित ज्योतिर्लिंगम स्थलों में सबसे अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। ठंड का मौसम चरम पर होने की स्थिति के कारण, केदारनाथ मंदिर छह महीने का शीतकालीन अवकाश लेता है।

अर्थात छः महीनों के लिए मंदिर के कपाट सभी के लिए बंद कर दिये जाते हैं, जो दिवाली के समय भाई दूज के त्योहार से शुरू होता है और अप्रैल के अंत या मई के शुरुआती समय में अक्षय तृतीया त्योहार के बाद इसे भक्तों के लिए पुनः खोल दिया जाता है। उस समय के दौरान, मूर्ति को उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में ऊखीमठ ले जाया जाता है और पुजारी केदारनाथ लौटने तक अगले छः महीनों तक वहां पर ही सब विधि विधान से पूजन-अर्चन करते हैं।

मंदिर संरक्षित और अविनाशी

2013 में विनाशकारी बादल फटने से उत्तराखंड में भीषण आपदा आई थी। जबकि राज्य के पहाड़ी क्षेत्र में विनाशकारी भूस्खलन और बाढ़ का सामना करना पड़ा, पहाड़ के नीचे एक विशाल शिलाखंड आने के बावजूद मंदिर को बचा लिया गया।

अजीब तरह से, जैसे ही ये पहाड़ से नीचे आया, विशाल ढीला, लुढ़कता हुआ पत्थर मंदिर से कुछ ही मीटर की दूरी पर रुक गया और वास्तव में उस आपदा में भी किसी भी विनाश से बचा लिया। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फुटेज से पता चला है कि मंदिर के पीछे की तरफ एक बड़ी चट्टान ने मंदिर की ओर आने वाले पानी की भारी बाढ़ को मोड़ दिया।

पांडवों और आदि शंकराचार्य

सनातन धर्म यानि हिंदू धर्म के सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक केदारनाथ मंदिर बहुत ही अधिक ऊंचाई पर स्थित है, जिसका निर्माण महाभारत के पांडवों द्वारा किया गया था, जो किसी के खातों में लिखे गए पापों और पापों के लिए क्षमा मांग रहे थे।

कुरुक्षेत्र के महान युद्ध के बाद पांडवों ने भगवान शिव की तलाश में काशी की यात्रा की और भोले शंकर भगवान जी स्वयं को एक बैल के रूप में बदलकर उत्तराखंड भाग गए। पांडवों ने ये देखा और काशी से उत्तराखंड की यात्रा की। 

जल्द ही उन्होंने भगवान शिव को उनके बैल रूप में पाया और प्रार्थना करने लगे। वे कहते हैं कि गुप्तकाशी वो स्थान है जहां पांडवों ने शिव को बैल के रूप में पाया था, जिन्होंने जल्द ही उन्हें आशीर्वाद दिया। वे कहते हैं कि मंदिर की उत्पत्ति महाभारत में हो सकती है लेकिन वर्तमान मंदिर आदि शंकराचार्य के आदेश के तहत निर्माण किया गया था।

बाबा भैरों नाथ ने की केदारनाथ मंदिर की रक्षा

ऐसा माना जाता है कि भगवान भैरों नाथ जी, जिनका मंदिर इस हिमालय क्षेत्र में निकटता में ही स्थित है, सदैव केदारनाथ मंदिर की रखवाली करते हैं। भैरों नाथ को “क्षेत्रपाल” के रूप में भी जाना जाता है, जो भगवान शिव के उग्र अवतार हैं जो तबाही और विनाश से जुड़े हैं।

स्थानीय लोगों का ऐसा कहना है कि ये भैरों नाथ जी ही हैं जो बुरी आपदाओं को दूर भगाते हैं और मंदिर को किसी भी तरह के नुकसान से मुक्त रखते हैं। भैरों बाबा मंदिर, ये केदारनाथ मंदिर के दक्षिण में स्थित है और जो लोग केदारनाथ मंदिर जाते हैं उन्हें भैरों बाबा के मंदिर जाना बहुत आवश्यक है। यहाँ जाए बिना उन्हें केदारनाथ के दर्शनों का भी पूर्ण फल नही मिलता है।

वैसे तो उत्तराखंड में बहुत से पर्वत शृंखला, नदियाँ, झरने, मंदिर, गुफायें इत्यादि हैं लेकिन इन सभी का अपना एक अलग ही महत्व और मान्यतायें हैं। यहाँ स्थित कोई भी वस्तु सामान्य नहीं है उन सभी का संबंध कहीं न कहीं पुराणों आदि से है। इसीलिए तो इसे देवभूमि उत्तराखंड कहते हैं।

यहां भी पढ़ें:

Leave a Comment