जानिए उत्तराखंड में स्थित चौखंबा पर्वत क्यों है पर्यटकों के लिए आकषर्ण का केंद्र | Chaukhamba Mountain

उत्तराखंड की बेहद खूबसूरत वादियां अपने देश ही नहीं बल्कि विदेशी पर्यटकों को भी अपनी और आकर्षित करती हैं। वैसे तो उत्तराखंड में बहुत से ऐसे पर्वत और शंख लाए हैं जो सभी को सम्मोहित कर लेती हैं।

इसी तरह एक चौखंबा पर्वत श्रंखला है जो अपनी अनोखी खूबसूरती से सभी का ध्यान अपनी ओर केंद्रित कर लेती है। गंगोत्री की पर्वत श्रृंखला में मौजूद ये चोटी अपने आप में अद्भुत सुंदरता समेटे हुए है। 

चौखंबा व्यू प्वाइंट हिमालय की चोटियों और हिमनदों के अद्भुत मनोरम दृश्यों को पर्यटकों के समक्ष पेश करता है। ये पर्वत श्रृंखला हरे ओक के जंगलों और द्वारिखाल के रंगीन बुरांस के वृक्षों से पूरी तरह से गिरा हुआ है।

चौखंबा की मनमोहक सुंदर चोटियां बरबस ही किसी को भी अपनी ओर खींच लेती हैं। अपनी प्राकृतिक सुंदरता की कारण ये स्थान घूमने जाने वाले और पिकनिक जाने वाले लोगों के मध्य बहुत ही लोकप्रिय है। 

चौखंबा एक पर्वतीय क्षेत्र है जोकि गढ़वाल हिमालय के गंगोत्री क्षेत्र में स्थित है। चौखंबा अर्थात् चार स्तंभ का समूह। चौखंबा का पर्वत रिज गंगोत्री समूह का एक हिस्सा है, जोकि गढ़वाल हिमालय का एक भाग है। ये पश्चिमी गढ़वाल का सबसे ऊंचा पर्वतों का समूह है।

इस पूरी श्रृंखला का सबसे उच्च शिखर चौखंबा प्रथम के नाम से जाना जाता है। इसी प्रकार उससे थोड़ा नीचे का शिखर चौखंबा द्वितीय के नाम से, उससे छोटा शिखर चौखंबा तृतीय, और फिर सबसे छोटा शिखर चौखंभा चतुर्थ के नाम से जाना जाता है। 

इसकी सबसे ऊंची चोटी का नाम गंगोत्री ग्लेशियर के सबसे मुख्य शिखर के रूप में रखा गया है और ये पूरे समूह की पूर्वी श्रेणी का सबसे मुख्य हिस्सा है। इस चोटी का स्थान प्रमुख रूप से उत्तराखंड राज्य की ओर है। ये पवित्र गंगोत्री ग्लेशियर के मुख्य पर स्थित है।

चौखंबा पश्चिमी ढलान ऊपर गंगोत्री ग्लेशियर से शुरू हो जाती है। गंगोत्री ग्लेशियर से भागीरथी नदी निकलती है जो कि पवित्र गंगा नदी के दो मुख्य स्रोतों में से एक है। गंगा नदी का दूसरा मुख्य स्रोत अलकनंदा नदी है।

गंगोत्री ग्लेशियर के अंत में एक पहाड़ स्थित है, जिसे शिवलिंग शिखर कहा जाता है। शिवलिंग शिखर इस समूह का एक और बहुत ही महत्वपूर्ण पर्वत है।

चौखंबा पर्वत श्रंखला की ऊंचाई

Chaukhamba Mountain

दरअसल चौखंबा पर्वत श्रंखला की औसत ऊंचाई लगभग 7014 मीटर है। इस पर्वत श्रंखला की प्रमुख चट्टान पूर्वोत्तर छोर की तरफ स्थित है।

▪️सबसे ऊंचे शिखर चौखंबा प्रथम की ऊंचाई लगभग 7138 मीटर है। 

▪️इससे छोटे शिखर चौखंबा द्वितीय की ऊंचाई लगभग 7070 मीटर है। 

▪️इससे भी छोटे शिखर चौखंबा तृतीय की ऊंचाई लगभग 6995 मीटर है। 

▪️वहीं सबसे छोटे शिखर चौखंबा चतुर्थ की ऊंचाई 6854 मीटर है।

चौखंबा पीक पर पर्वतारोहण

लुचेन जॉर्ज और विक्टर रसेनबर्गर द्वारा 1938 और 1939 में किए गए असफल प्रयासों के बाद चौखंबा प्रथम पर्वत श्रृंखला पर पहली बार 13 जून 1952 को चढ़ाई चली गई थी। उन दोनों के द्वारा तय किया गया रास्ता पूर्वोत्तर की ओर से था।

जिसमें भागीरथी ग्लेशियर और खारक ग्लेशियर भी शामिल थे। इस पर्वत श्रंखला का मुख्य दर्रा, मान दर्रा और चौखंबा प्रथम को मुख्य चोटी के रूप में घोषित किया गया है। जिसमें लगभग 1500 मीटर की ऊंचाई है।

चौखंबा पर्वत श्रंखला गढ़वाल में मौजूद हिमालय रेंज की बेहद खूबसूरत पर्वत श्रंखला है। ये चोटी वहां आने जाने वाले पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित लेती है। इतनी मनोरम हैं ये चोटी कि जो भी वहां जाता है वह  दोबारा वहां से वापिस आना ही नहीं चाहता।

चौखंबा चोटी से हिमालय की चोटियों का इतना सुंदर और मनोरम दृश्य देखने को मिलता है, कि मन करता है बस देखते ही जाएं। गंगोत्री की पर्वत श्रृंखलाओं में चौखंभा सबसे ऊंची चोटी है।

>>>> जानिए क्यों कहते हैं नंदा देवी पर्वत को भारत की अनूठी धरोहर

Leave a Comment